धागों की बुनावट से बुनी जिन्दगी

धागों की बुनावट से बुनी जिन्दगी
मैंने बुनी और सिली है
कुछ उधड़ी तो तूने की रफू
वही तो तू है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.