ना फेरो नज़रें

ना फेरो नज़रें हम से तुम
जुल्फें भी तो मुड़ जाती हैं
चेहरा भी हो जाता है ओझल
सिर्फ मुस्कान ही नहीं जाती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.